मार्शल योजना क्या हैं, उद्देश्य ? Marshal Yojana Kya Hai

मार्शल योजना क्या हैं, उद्देश्य ? Marshal Yojana Kya Hai

मार्शल योजना क्या हैं, उद्देश्य ? Marshal Yojana Kya Hai:- मार्शल योजना जिसे हम यूरोपीय पुनर्निर्माण कार्यक्रम के रूप में भी जानते हैं एक महत्वपूर्ण पहल थी जो 1948 से 1951 तक चली। इसका मुख्य उद्देश्य था कि अमेरिका यूरोप की मदद करें जो दूसरे विश्व युद्ध के बाद संथित तो हो रहा था। यह प्रोग्राम अमेरिकी विदेश मंत्री जॉर्ज मार्शल के नेतृत्व में 1947 में शुरू हुआ था। मार्शल योजना ने यूरोप की आर्थिक स्थिति को सुधारने सामाजिक समस्या को बढ़ाने और व्यापार में मदद करने का कार्य किया था। इसने यूरोप का स्वस्थ और सुरक्षित बनाने में मदद की और उसे आर्थिक सहायता प्रदान की ।

मार्शल योजना क्या हैं, उद्देश्य ? Marshal Yojana Kya Hai
मार्शल योजना क्या हैं, उद्देश्य ? Marshal Yojana Kya Hai

मार्शल योजना क्या थी: Marshal Yojana Kya Thi

तमाशा इतना कि अमेरिकी सहायता कार्यक्रम था जो पश्चिमी यूरोपीय देशों के लिए शुरू किया गया था। यहां 1948 में द्वितीय विश्व युद्ध के बाद आरंभ हुआ था और बहुत प्रभावी रूप से कार्य किया गया। इसका मुख्य उद्देश्य पश्चिमी यूरोप को आर्थिक और सामाजिक सहायता प्रदान करना था। मार्शल प्लान ने यूरोपीय देशों को पूर्ण निर्माण के लिए आवश्यक पूंजी और सामग्री प्रदान किया जिससे उनकी अर्थव्यवस्था मजबूत हो सके। इसके अलावा यह योजना ने यूरोपीय देशों के बीच साथी पान बढ़ाने में भी मदद की। इस से युद्ध के बाद एकता की भावना उत्पन्न हुई और यूरोप को आर्थिक सुरक्षा मिली ।

मार्शल योजना का उद्देश्य: Marshal Yojana Objective

मार्शल योजना का मुख्य उद्देश्य था कि यूरोपिय देशों की मदद करके उनकी अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जाए। इसे उनका उत्पादन बड़े और विभिन्न राष्ट्राओं के बीच व्यापार में बढ़ोतरी हो। प्लेन का एक और मुख्य लक्ष्य की यूरोप में स्थित अर्थव्यवस्थाएं बनी रहे और उनके बीच सामंजस्य बनी रहे। मार्शल प्लान के तहत कृषि और औद्योगिक उत्पादन को बढ़ावा मिला ताकि लोगों को रोजगार मिले और उनके जीवन स्तर में सुधार हो। इसने युद्ध के बाद की आर्थिक स्थिति को सुधारने में मदद की और साम्यवाद और विश्व व्यापार को बढ़ावा देने का प्रयास किया

प्रशासनिक एजेंट : Administrative Agents

मार्शल योजना के कार्य वहां के लिए दो प्रशासनिक एजेंट थे:-

  • आर्थिक सहयोग प्रशासन (ECA)
  • यूरोपीय आर्थिक सहयोग संगठन (OEEC)

फंडिंग पैटर्न और मार्शल प्लान के प्राप्तकर्ता: Funding Pattern and Recepients of Marshall Plan

  • मार्शल प्लान में यूरोपी सुधार के लिए मोटे तौर पर $13.3 बिलियन की सहायता प्रदान की जिसे 1948 से 1952 के बीच अगले चार वर्षो में 16 देश के बीच साझा किया गया
  • मार्शल प्लान के धन को प्रति व्यक्ति आधार पर वितरित किया गया था जिसे मैं एक बड़ा हिस्सा प्रमुख आर्थिक महाशक्तियों के पास गया था ।

मार्शल योजना से अनुदान प्राप्त करने वालों की सूची नीचे दी गई है

मार्शल योजना क्या हैं, उद्देश्य ? Marshal Yojana Kya Hai
मार्शल योजना क्या हैं, उद्देश्य ? Marshal Yojana Kya Hai
क्र.सं.देशराशि (यूएसडी में)
1ऑस्ट्रिया677.8
2बेल्जियम और लक्ज़मबर्ग559.3
3डेनमार्क273.0
4फ्रांस2,713.6
5यूनान706.7
6आइसलैंड29.3
7आयरलैंड147.5
8इटली1,508.8
9नीदरलैंड1,083.5
10नॉर्वे255.3
1 1पुर्तगाल51.2
12स्वीडन107.3
13टर्की225.1
14यूनाइटेड किंगडम3,189.8
15पश्चिम जर्मनी1,390.6
संपूर्ण13,325.8

यह भी पढ़े:

Laptop Sahay Yojana 2023 MP
Ladli Behna Yojana 7 Kist Kab Aaegi
Pandit Deendayal Upadhyay Rajya Karmchari Cashless Chikitsa Yojana

मार्शल योजना का महत्व : Marshal Yojana Importance

यूरोप में आर्थिक विकास मार्शल योजना के तहत अमेरिका द्वारा 16 यूरोपीय देशों को कुल $13 बिलियन का अनुदान प्रदान किया गया था इन अनुदानों की मदद से तबाह हुए देश ने आर्थिक स्थिरता हासिल की और उन्होंने अपने विकास को युद्ध पूर्व स्तरों तक पर कर लिया।

अमेरिकी मदद पर यूरोपीय देशों की निर्भरता ने भविष्य में यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच मजबूत व्यापार संबंधों का मार्ग प्रशस्त किया इसके परिणाम स्वरुप 2021 में अमेरिका के माल के निर्यात के लिए सबसे बड़ा भागीदार बना हुआ है ।

नाटो 30 यूरोपीय और उत्तरी अमेरिकी देशों के बीच एक प्रकार का अंतर सरकारी सैन्य गठबंधन है सभी सहायता प्राप्त करने वाले यूरोपीय राष्ट्रों के बीच सहयोग ने उनमें अधिक एकता पैदा की और उसके परिणाम सहित नाटो का गठन हुआ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *